जीवन मंत्र

क्यों हुआ हनुमानजी और भगवान शिव का युद्ध, क्या हुआ परिणाम?

2017-05-25 22:01:32
हनुमानजी भगवान शिव के अवतार हैं, ये बात तो हम सभी जानते हैं, लेकिन हनुमानजी और भगवान शिव का युद्ध भी हुआ था, ये बात बहुत कम लोग जानते हैं। इससे संबंधित कथा का वर्णन पद्म पुराण के पातालखंड में मिलता है। उसके अनुसार-

यज्ञ का घोड़ा बना युद्ध का कारण

जब श्रीराम ने अश्वमेध यज्ञ किया तो यज्ञ का घोड़ा घूमते-घूमते देवपुर नाम के नगर में जा पहुंचा। उस नगर के राजा का नाम वीरमणि था। वीरमणि भगवान शिव का परम भक्त था इसलिए देवपुर की रक्षा स्वयं भगवान शिव करते थे। वीरमणि के पुत्र रुक्मांगद ने जब यज्ञ का घोड़ा देखा उसे बंदी बना लिया। यह बात जब घोड़े की रक्षा कर रहे शत्रुघ्न को पता चली तो उन्होंने देवपुर पर आक्रमण करने का निश्चय किया।

शत्रुघ्न ने भी किया था शिवजी से युद्ध

शत्रुघ्न और राजा वीरमणि की सेना में भयंकर युद्ध छिड़ गया। हनुमानजी भी वीरमणि की सेना का संहार करने लगे। श्रीराम के भाई भरत के पुत्र पुष्कल ने जब राजा वीरमणि को घायल कर दिया तो उनकी सेना अपनी जान बचाकर भागने लगी। जब भगवान ने अपने भक्त का यह हाल देखा तो वे भी उनके पक्ष में युद्ध करने लगे। भगवान शिव को युद्ध करते देख शत्रुघ्न भी वहां आ गए। दोनों में भयंकर युद्ध होने लगा।

भगवान शिव ने नहीं जीत पाए शत्रुघ्न

भगवान शिव ने वीरभद्र को पुष्कल से नंदी को हनुमाजनी से युद्ध करने के लिए भेजा। वीरभद्र और पुष्कल का युद्ध पांच दिन तक चलता रहा। अंत में वीरभद्र ने पुष्कल का वध कर दिया। ये देखकर शत्रुघ्न को बहुत दुख हुआ। शत्रुघ्न और क्रोधित होकर शिव से युद्ध करने लगे। उनका युद्ध 11 दिनों तक चलता रहा। अंत में भगवान शिव के प्रहार से शत्रुघ्न बेहोश हो गए। यह देख हनुमानजी स्वयं शिव से युद्ध करने लगे।

भगवान शिव ने दिया था हनुमानजी को ये वरदान

हनुमानजी ने शिवजी से पूछा कि आप तो राम भक्त हैं तो फिर हमसे युद्ध क्यों कर रहे हैं। शिवजी ने कहा कि- मैंने राजा वीरमणि को उसके राज्य की रक्षा करने का वचन दिया है इसलिए मैं युद्ध करने के लिए बाध्य हूं। इसके बाद हनुमानजी और शिवजी के बीच भयंकर युद्ध होने लगा।
हनुमानजी के पराक्रम से प्रसन्न होकर शिवजी ने उनसे वरदान मांगने को कहा। तब हनुमानजी ने कहा कि- इस युद्ध में भरत के पुत्र पुष्कल मारे गए हैं और शत्रुघ्न भी बेहोश हैं। मैं द्रोणगिरी पर्वत पर संजीवनी औषधि लेने जा रहा हूं, तब तक आप इनके शरीर की रक्षा कीजिए। शिवजी ने उन्हें ये वरदान दे दिया।

श्रीराम के आते ही समाप्त हो गया युद्ध

इधर हनुमानजी तुरंत द्रोणगिरी पर्वत आए और संजीवनी औषधि लेकर पुन: युद्ध भूमि में आ गए। उस औषधि से हनुमानजी ने पुष्कल को पुन:जीवित कर दिया और शत्रुघ्न को भी स्वस्थ कर दिया। शत्रुघ्न और शिवजी में फिर से युद्ध होने लगा। जब शत्रुघ्न किसी भी तरह से शिवजी से नहीं जीत पाए तो हनुमानजी ने उनसे श्रीराम को याद करने के लिए कहा। शत्रुघ्न ने ऐसा ही किया।
श्रीराम तुरंत युद्ध भूमि में प्रकट हो गए। श्रीराम को आया देख भगवान शिव भी उनकी शरण में चले गए और वीरमणि आदि योद्धाओं से भी ऐसा ही करने को कहा। वीरमणि ने यज्ञ को घोड़ा भी श्रीराम को लौटा दिया और अपना राज्य भी उन्हीं को सौंप दिया। इस तरह वह युद्ध समाप्त हुआ।

News Bulletin

  • आर्मी चीफ बिपिन रावत की मांग, फील्ड मार्शल करियप्पा को मिले भारत रत्न
    readmore...

  • पंचायत सहायक के 224 पदों पर चयनितों की सूची होगी 16 नवंबर को जारी
    readmore...

  • श्रीगंगानगर में डेंगू का प्रकोप : 6 नए रोगी मिले, संख्या हुई 137
    readmore...

  • एशियन चैंपियनशिप से पहले फिर खडा हुआ लिंग विवाद, दूती बोलीं...
    readmore...

  • केंद्र के समान वेतन भत्ते देने की मांग, रणनीति बना रहे राज्य कर्मचारी
    readmore...

  • अब छोटे बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी बिल में राहत
    readmore...

  • मॉरीशस में योगी आदित्यनाथ के सामने तिरंगे का अपमान, फोटो हुई वायरल
    readmore...

  • दिवालिया घोषित होगा जेपी इंफ्राटेक, हजारों निवेशकों की बढ़ी मुश्किल
    readmore...

  • एशेज सीरीज : बेन स्टोक्स के बाद अब ये दोनों स्टार भी हुए बाहर
    readmore...

  • वोडाफोन ने गुरुग्राम का पहला वाईफाई युक्त बस-शेल्टर बनाया
    readmore...

  • तय हुई भिडंत, इनसे टक्कर लेंगे मुक्केबाज अखिल और जितेंद्र
    readmore...

  • विनिर्माण क्षेत्र में वेतन सबसे कम : रपट
    readmore...

  • पीसीबी ने उमर को इंग्लैंड से वापस बुलाया
    readmore...

  • जुड़वा 2 की एक्ट्रेस जैकलिन ने इन्हें बताया सबसे अनमोल व्यक्ति
    readmore...

  • TOH:फातिमा से नहीं बल्कि कैटरीना से इश्क फरमायेंगे आमिर खान
    readmore...

  • स्टेज पर आते ही छा गए जस्टिन बीबर, आलिया भट्ट, मलाइका, श्रीदेवी जैसे सितारे बने दर्शक
    readmore...

  • इंस्टाग्राम पर दुनिया के सबसे ज्यादा फॉलो किये जाने वाले नेता हैं मोदी
    readmore...

Khabre Zara Hatke

  • अब छोटे बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी बिल में राहत
    readmore...

  • इस मामले में दिल की आवाज सुनते हैं सुपरस्टार आमिर खान
    readmore...

  • झारखंड में टमाटर की कीमतों में भारी उछाल
    readmore...

  • भारतीय गोल्फर शिव कपूर ने कटाया ब्रिटिश ओपन का टिकट
    readmore...

  • इस दिशा में बनाएं रसोईघर, कभी नहीं आएगी अन्न की कमी
    readmore...

  • ये है SUICIDE TREE, इसके आगे किंग कोबरा भी फेल
    readmore...

  • विवाद के बीच कंगारू क्रिकेटर्स पर भारतीय कंपनियों की नजर
    readmore...

  • गर्मी से बचने का इससे अनूठा उपाय नहीं देखा होगा आपने
    readmore...

  • जियो गोलगप्पे का जबरदस्त ऑफर, 100 रुपए अनलिमिटेड और 1000 में ...
    readmore...

  • यह है रबर ब्वॉय, 180 डिग्री तक घुमा लेता है गर्दन
    readmore...

  • क्यों हुआ हनुमानजी और भगवान शिव का युद्ध, क्या हुआ परिणाम?
    readmore...

  • सुबह पलंग से पैर नीचे रखने से पहले करें ये उपाय, बढ़ता है सम्मान
    readmore...

  • कल्पनाएं हमारे आस-पास तैर रही हैं, बस इन पर नजर... : गुलजार
    readmore...

  • सोनम कपूर बोली- कैट फाइट की बातें हुईं पुरानी, अब ...
    readmore...

  • वाइफ ने कहा ब्रेकफास्ट बना दो, पति ने बना दी मशीन, अब दोनों खुश हैं
    readmore...

  • चार साल पहले हो चुकी थी बेटे की मौत, मां ने ऐसे सुनी उसके दिल की धड़कन
    readmore...

  • वृश्चिक

    आर्थिक दबाव बहुत ज्यादा रहेगा। परन्तु आर्थिक लाभ भी पर्याप्त मात्रा में होगा। नए विषय से लाभ होगा। सन्तान के लिए यह महीना बहुत शुभ है। विशेषतौर से महीने का पूर्वाद्र्ध। उनके सोचे हुए कार्य

    और पढ़ें »
  • मिथुन

    अत्यधिक महत्त्वपूर्ण महीना हैं। इसमें आप अपनी तमाम कार्यपद्धति का संशोधन करेंगे और किसी महत्त्वपूर्ण काम में जुट जाएंगे। यह प्रशंसा का भी समय है। आपकी सार्वजनिक रूप से प्रसिद्धि होगी और आपकी कार्य पद्धति

    और पढ़ें »
  • मेष

    यह महीना अत्यंत महत्त्वपूर्ण हो चला है, क्योंकि राशि से व्यय स्थान को वक्री बृहस्पति और वक्री शुक्र पूरे महीने प्रभावित करेंगे। बहुत अधिक खर्चा होगा। देनदारियाँ अधिक होंगी और किसी न किसी रूप में

    और पढ़ें »
  • वृषभ

    आर्थिक लाभ के लिए यह महीना श्रेष्ठ है। पूरे महीने कहीं न कहीं धनागमन होता रहेगा और आप तद्नुसार ही अपनी योजनाओं में परिवर्तन कर लेंगे। बृहस्पति बहुत अनुकूल हैं और वक्री रहकर कोई बड़ी

    और पढ़ें »
  • कर्क

    विशेष गतिविधियों का महीना है। आप कोई अत्यंत महत्त्वपूर्ण निर्णय लेना चाहें तो समय अनुकूल है। आर्थिक दबाव तो रहेगा परन्तु आपके पास सहयोग के प्रस्ताव भी रहेंगे। भागीदारी में लाभ होगा। जीवन साथी के

    और पढ़ें »
  • सिंह

    राशि से भाग्य स्थान में मेष राशि के मंगल कोई अच्छी खबर दिलाने वाले हैं। इस महीने गुप्त आय हो सकती है या अचानक बड़ी आय हो सकती हैं। परन्तु साथ ही कोई बड़ा खर्चा

    और पढ़ें »
  • कन्या

    व्यक्तिगत जीवन में कोई महत्त्वपूर्ण परिवर्तन आ सकता है। सगाई सम्बन्ध या विवाह के लिए यह महत्त्वपूर्ण महीना है, जो अविवाहित हैं उनके प्रेम सम्बन्ध प्रारम्भ हो सकते हैं। महीने के उत्तराद्र्ध में किसी

    और पढ़ें »
  • धनु

    राशि से केन्द्र में कई ग्रहों की उपस्थिति जीवन के घटनाक्रम को तेज कर देगी। आप तेज गति से व्यावसायिक निर्णय लेंगे और लाभ उठायेंगे। काम बदलने की बात बार-बार मन में आएगी। यदि नौकरी

    और पढ़ें »
  • मीन

    जीवन में विशेष समय चल रहा है। व्यक्तिगत रिश्तों के मामलों में, सगाई -सम्बन्ध के मामलों में या विवाह के मामलों में बात आगे बढ़ेगी। मन में तरह-तरह की बातें रहेंगी, परन्तु आप उनकी परवाह

    और पढ़ें »
  • तुला

    भागीदारी के मामलों में महीना बहुत अच्छा जाने वाला है, परन्तु जीवन संघर्ष बढ़ता हुआ नजर आ रहा है। कार्य विस्तार आपको परेशान करेगा। आर्थिक समस्याएँ यथावत बनी रहेंगी। ऋण लेना और ऋण देना दोनों

    और पढ़ें »
  • कुम्भ

    यह महीना धार्मिक कार्यों में या अनुष्ठान में भाग लेने का है और उसमें खर्चा भी अधिक होगा। यह भी सम्भव हैं कि घर में कोई मंगल कार्य हो और उसमें खर्चा हो। कोई अचानक

    और पढ़ें »
  • मकर

    घर-कुटुम्ब में मंगल कार्य हो सकता है। आपके ऊपर बहुत अधिक आर्थिक दबाव रहेगा परन्तु मन में उत्साह बना रहेगा। व्यावसायिक प्रतिद्वंद्विता रहेगी और आप उसमें भारी पड़ेंगे। महीने के उत्तराद्ध्र में कोई साहस भरा

    और पढ़ें »

News Heading